अगर आप हर रोज यात्री वाहनों में सवार होकर अपने कार्यालयों या गंतव्यों के लिए रवाना होते हैं तो जरा संभल जाइए। अगले सप्ताह से यात्री वाहनों में सफर करने से इसका सीधा असर पर अापकी जेब पर पड़ेगा। प्रदेश सरकार ने यात्री वाहनों में 19 प्रतिशत यात्री किरायों में बढ़ोतरी को स्वीकृति दे दी है। इस संबंध में अगले सप्ताह तक अधिसूचना जारी होने की संभावना है।

सरकार की ओर से गठित किराया संशोधन समिति ने गत 24 फरवरी को ट्रांसपोर्टरों के साथ आयोजित बैठक में इसका फैसला लिया गया था। बैठक में ट्रांसपोर्टरों ने सरकार से अपील की थी कि मौजूदा पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्यों को मद्देनजर रखते हुए यात्री किरायों में बढ़ोतरी करने की मांग जायज है। ट्रांसपोर्टरों ने यह भी तर्क दिया था कि अप्रैल 2018 को जिस समय यात्री किरायों में बढ़ोतरी की गई थी उस समय डीजल 65 रुपये प्रति लीटर के करीब था जिसकी अभी करीब 85 रुपये प्रति लीटर के करीब कीमत पहुंच चुकी है। ऐसे में ट्रांसपोर्टरों के लिए मौजूदा किरायों में यात्री वाहन दौड़ाना संभव नहीं है।

ऐसे में आज यानि वीरवार को एडमिनिस्ट्रेटिव काउंसिल की बैठक प्रदेश के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा की अध्यक्षता में हुई। इसमें सभी यात्री प्रकार के यात्री वाहनों के किरायों में 19 प्रतिशत बढ़ोतरी को स्वीकृति दे दी गई है। इसी बीच ऑल जेएंडके ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन के महासचिव विजय कुमार और मिनी बस वर्कर्स यूनियन के अयक्ष विजय सिंह चिब ने सरकार का आभार जताया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले सप्ताह तक सरकार की ओर से यात्री किरायों में बढ़ोतरी बढ़ाने संबंधी अधिसूचना जारी कर दी जाएगी।