शिक्षक दीपक चंद ने देश के लिए अपनी जान दी है। वह शहीद हुए हैं। दुख की इस घड़ी में जम्मू-कश्मीर प्रशासन ही नहीं बल्कि पूरा देश उनके साथ खड़ा है। शहीद के परिवार को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आने दी जाएगी। जहां तक शहीद शिक्षक दीपक चंद की बेटी मृदु की शिक्षा की बात है तो प्रदेश की इस बेटी की लाइफ टाइम एजुकेशन का पूरा खर्च सरकार उठाएगी। पत्नी को भी शहीद शिक्षक दीपक के स्थान पर नौकरी दी जाएगी।
यह बात उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कही। आज बुधवार को जम्मू के पटोली मंगोत्रिया में शहीद दीपक चंद के परिवार से मुलाकात करने पहुंचे उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए इस बात का विश्वास दिलाया कि प्रदेश सरकार की ओर से उन्हें हर संभव मदद मिलेगी। परिवार को यदि किसी भी तरह की कोई परेशानी हो, सरकार के समक्ष रखे, उसका तुरंत निपटारा किया जाएगा।
उपराज्यपाल ने शहीद दीपक चंद के परिवार को ढांढस बंधाते हुए इस बात का यकीन भी दिलाया कि दीपक चंद की हत्या करने वाले खूनियों को बख्शा नहीं जाएगा। उनकी पहचान कर ली गई है। जल्द ही सुरक्षाबल उन्हें मुठभेड़ में मार गिराएंगे। उपराज्यपाल केे साथ डिवीजनल कमिश्नर जम्मू राघव लंगर, एडीसी जम्मू घनश्याम सिंह सहित पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।
उपराज्यपाल के दौरे को देखते हुए पटोली मंगोत्रिया में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए थे। वाहन चालकों को परेशानी न हो इसीलिए उपराज्यपाल के पहुंचने से पहले ही वाहनों की आवाजाही को दूसरी दिशा की ओर मोड़ गया था।